Monday, 7 November 2016

Expressing Views :a platform to express



Expression is the best way to say your feelings and also to give strength to your thoughts. Your views become your assets so lets come and join us to share your thoughts using notes , poems, paragraphs. quotes etc and enhance your Expressing Views.



For joining our group :

Expressing Views



Click the below link :

Wednesday, 2 November 2016

माँ

"माँ"

अपनेपन की मिशाल
जिसके ना होने पर
खुद के वजूद का ना रहना
तमाम मुश्किलों के रहने पर भी
इक मार्गदर्शक की तरह
हमेशा हमारे साथ रहना
जिसकी इक मुस्कुराहट से
दुनिया की तमाम ख़ुशियों का मिल जाना
बच्चों की चहेती
प्यार की देवी
अपनेपन का एहसास कराने वाली
दुनिया में कदम रखने के बाद
वह पहला रिश्ता होती है

"माँ"