Wednesday, 9 December 2015

From the pens of abhi..


कितने खुश्गवार बन जाते हैं वो रिश्ते,
बरसो मेहनत से जो तराशे जाते हैं,
वक्त गुजर जाते हैं, दिन ढल जाते हैं.
पर कुछ रिश्ते ऐसे बन जाते हैं.
जो उम्र भर निभाये जाते हैं.
चाहे कितनी भी दुरियाँ क्यो ना हो
पर इक दुजे के लिये
हमेशा अटूट बन जाते हैं.
वो रिश्ते भाई बहन के होते हैं
जो इस दुनियाँ मे बढकर होते हैं
चाहे कोई भी परिस्थितियाँ क्यों ना हो
आख़िर उस पल में भी वो रिश्ते
अपने ही होते हैं।